Meri Ayyashiyan Meena Ke Sath- Part 1-मेरी अय्याशियाँ मीना के साथ-1

By | December 5, 2018
Meri Ayyashiyan Meena Ke Sath- Part 1

Meri Ayyashiyan Meena Ke Sath- Part 1

Meri Ayyashiyan Meena Ke Sath- Part 2

यह कहानी मेरी व मीना की है। जैसा कि उसका नाम‌ हैं ‘पिंकी’ वो है भी बिल्कुल वैसी ही, बिल्कुल सफेद गोरा रँग जो हल्का सा हाथ लगाने से भी लाल गुलाबी हो जाये, और तो और वो अधिकतर कपड़े भी गुलाबी रंग के पहनती जिसके कारण वो पिंक यानि की गुलाबी या ये कहें कि किसी ताजा खिले गुलाब की तरह लगती है।

मीना का घर हमारे घर के बगल में ही है, हमारे घर की व मीना के घर की छत आपस में मिली हुई है, दोनों छतों के बीच में बस कमर तक ऊँचाई की एक पतली सी दीवार ही है इसलिए हम छत से भी एक दूसरे के घर चले जाते थे और पड़ोसी होने के नाते हमारा व मीना के घर काफी आना जाना था, जो अब भी वैसा ही है.

मगर उस समय मेरी व मीना की कभी नहीं बनती थी। बचपन से ही हम दोनों झगड़ते रहते थे। बचपन में मेरी नाक बहती थी इसलिये वो मुझे बहँगा कहती थी, और मीना को मैं छिपकली कहता था क्योंकि दुबले-पतले शरीर व बिल्कुल सफेद गोरे रँग के साथ साथ उसकी हरकतें छिपकली के जैसी ही थी जब भी उसे गुस्सा आता तो वो छिपकली की तरह चिपक जाती व नाखूनों और दाँतों से काट खाती थी।

बड़ा होने पर मेरी नाक तो बहनी बन्द हो गई मगर मीना की हरकतें बाद में भी बिल्कुल वैसी ही रही, झगड़ा होने पर वो अब भी नाखूनों व दाँतों से काट खाती थी।
हम दोनों में अब भी नहीं बनती थी, अभी तक हम दोनों एक दूसरे को बचपन के नाम से ही चिढ़ाते रहते थे। हम दोनों में से किसी को भी अगर चिढ़ाने का कोई मौका मिल जाये तो हम बाज नहीं आते थे।

जब भी मीना मुझे बोलती तो वो मुझे बहँगा ही कहकर बुलाती और मैं भी उसे छिपकली कहकर पुकारता था। मीना भी मेरे ही समान कक्षा में पढ़ती थी मगर वो लड़कियों के स्कूल में पढ़ती थी और मैं लड़कों के स्कूल में पढ़ता था।
मीना भी पढ़ने में काफी होशियार थी। हम दोनों में अब यह होड़ लगी रहती थी की परीक्षा में किसके नम्बर अधिक आयें।

पहले तो मैं भी पढ़ने में काफी अच्छा था मगर फिर बाद में तो आपको पता ही है भाभी के साथ सम्बन्ध बनने के बाद मैं पढ़ाई से काफी दूर हो गया था।
चलो अब कहानी पर आता हूँ.

सुमन के चले जाने के बाद मैं फिर से रेखा भाभी के साथ सोने लगा सब कुछ अच्छा ही चल रहा था कि एक दिन भाभी कपड़े सुखाना भूल गई, जब उन्हें याद आया तब तक शाम हो गई थी। उस समय भाभी खाना बनाने में व्यस्त थी इसलिए भाभी के कहने पर मैं ऊपर छत पर कपड़े सुखाने चला गया, मैं कपड़े सुखाकर छत पर से वापस आ ही रहा था कि तभी मेरी नजर सामने मीना के घर की तरफ चली गई, उनके घर में एक कमरा व लैटरीन बाथरुम ऊपर छत पर भी बना हुआ है.

कमरे की लाईट जल रही थी और खिड़की में से बेहद ही गोरी नंगी पीठ दिखाई दे रही थी, खिड़की से बस उसकी कमर के ऊपर का ही हिस्सा ही दिखाई दे रहा था मगर फिर भी दुबले पतले बदन से और बेहद ही गोरे रंग से मुझे पहचानने में देर नहीं लगी कि वो मीना है, वो नीचे झुकी और फिर हाथों में कुछ पकड़ कर सीधी हो गई. शायद उसने नीचे पायजामा (लोवर) पहना होगा, फिर उसने शमीज (लड़कियों के पहनने का अन्तः वस्त्र) पहना और फिर ऊपर से उसने गुलाबी रंग की टी-शर्ट डाल ली।

यह नजारा देखते ही मेरा लिंग उत्तेजित हो गया, फिर तभी उस कमरे की लाईट बन्द हो गई। शायद वो बाहर आने वाली थी इसलिये मैं भी चुपचाप नीचे आ गया मगर उस नजारे को देखकर मेरे तन बदन में आग सी लग गई। मैं चुपचाप भाभी के कमरे में आकर ऐसे ही लेट गया और मीना के बारे में सोचने लगा.

मैंने मीना को कभी भी इस नजर से नहीं देखा था, और देखता भी कैसे?
वो किसी भी तरीके से लड़की नहीं लगती थी…
क्योंकि उसके दुबले पतले शरीर पर कही भी मांस नहीं दिखाई देता था, बस सीने पर हल्के से उभार ही दिखाई देते थे, जो छोटे निम्बू के समान ही होंगे। उसके शरीर के साथ साथ वो रहती भी लड़कों की तरह ही थी, लड़कों की तरह बाल कटवाना, लड़कों की तरह ही कपड़े पहनना, और तो और स्कूल की वर्दी भी उसने पेंट-शर्ट की ही बनवा रखी थी। उसके स्कूल में सब लड़कियाँ शलवार कमीज पहनी थी मगर वो स्कूल में भी पेंट-शर्ट पहनती थी। घर में वो हमेशा लोवर और टी-शर्ट पहने रहती, और जब कभी बाहर जाती तो पैंट-शर्ट या जीन्स के साथ टी-शर्ट पहन कर बाहर निकलती थी।

मैंने कभी भी उसे लड़कियों के कपड़े पहने हुए नहीं देखा था, मगर आज मैंने उसकी सफेद कोरे कागज जैसी नंगी पीठ को देखा था मेरे तन बदन में आग सी लग गई थी। मैं उसके बेहद ही सफेद दूधिया गोरे रंग का कायल सा हो गया था, मैं सोच रहा था कि अगर उसका बदन ही इतना गोरा है तो उसके नन्हे उरोज व उसकी प्यारी सी योनि कैसी होगी?
यह बात मेरे दिमाग में आते मैं रोमांच से भर गया और मेरा लिंग अपने चर्म उत्थान पर पहुँच गया।

मैं मीना के ख्यालों में इतना खोया हुआ था कि पता ही नहीं चला कब भाभी कमरे में आ गई। मेरी तन्द्रा तो तब टूटी जब भाभी ने मुझे टोकते हुए पूछा- कहाँ खोये हुए हो?
भाभी के बात करने पर भी मैं बस हा ना में ही उनकी बात का जवाब दे रहा था।
मेरे व्यवहार से भाभी समझ गई कि कुछ ना कुछ बात है इसलिये भाभी ने फिर से मुझे पूछा- क्या बात है आज तबीयत खराब है क्या?
मगर मैं सोच रहा था कि भाभी को मीना के बारे में कहूँ या ना कहूँ?
तभी बाहर से ‘भाभी… भाभी… पायल भाभी…’ पुकारते हुए मीना की आवाज सुनाई दी और भाभी उसका जवाब देती उससे पहले ही मीना हाथ में किताबे पकड़े कमरे में आ गई, उसने वो ही गुलाबी टी-शर्ट पहन रखी थी जिसे अभी अभी छत पर मैं मीना को पहनते हुए देखकर आ रहा था।
मीना ने आते ही ‘ओय… बहंगे पैर हटा…’ कह कर एक हाथ से मेरे पैरों को उठा कर पीछे पटक दिया और भाभी की बगल में बैठ गई।

दरअसल पिंकी, मेरी भाभी से सवाल का हल निकलवाने के लिये आई थी। मीना व उसके घर वालों को पता था कि मेरी भाभी ने बी.एस.सी. तक पढ़ाई की हुई है इसलिये वो बहुत सी बार भाभी के पास पढ़ने के लिये आती रहती थी। मीना और उसके घरवाले तो चाहते थे कि मेरी भाभी उसे ट्यूशन पढ़ा दे मगर भाभी घर के कामों में ही व्यस्त रहती थी इसलिये उन्होंने मना कर दिया था।

मैंने मीना को कुछ नहीं कहा, बस अपने पैर पीछे खींच लिये, मीना भी भाभी को अपनी किताबे देकर सवाल समझने लगी और मैं बस उसे देखे जा रहा था।
मीना का इस तरह से बोलना आज मुझे बुरा नहीं लगा था, नहीं तो अभी तक मैं भी उसे दो-चार सुना चुका होता। पता नहीं क्यों मीना मुझे आज बहुत अच्छी व खूबसूरत लग रही थी इसलिये मैं बस उसे देखे ही जा रहा था.

गोल व मुस्कराता चेहरा जिसे देखते ही हर किसी के चेहरे पर मुस्कान आ जाये, लड़कों की तरह कटिंग किये हुए काले बाल जिन्होंने उसके आधे से ज्यादा माथे को ढक रखा था, नीली व बड़ी बड़ी आँखें, लम्बी पतली सी नाक, बिल्कुल सुर्ख गुलाबी व पतले पतले होंठ उसके दूधिया गोरे चेहरे पर अलग ही छटा सी बिखेर रहे थे और मुस्कुराते होंठों के बीच बिल्कुल सफेद दाँत जो मोतियों से दमक रहे थे, लम्बा कद और सबसे बड़ी बात उसका बिल्कुल सफेद दूधिया गोरा रंग अगर हल्का सा उसके बदन को कोई जोर से छू भी ले तो अलग ही निशान बन जाये।
भगवान ने मीना पर नैन-नक्श और रंग-रूप की दौलत तो दिल खोल कर लुटाई थी मगर बस एक ही जगह पर कंजूसी कर दी थी कि उसका शरीर बिल्कुल भी भरा नहीं था। सच कहूँ तो अगर मीना का शरीर थोड़ा सा भी भर जाये और वो अपने बाल बढ़ा ले तो स्वर्ग की अप्सरा से कहीं ज्यादा ही खूबसूरत लगेगी।

मीना का सारा ध्यान भाभी से सवाल समझने में था मगर मैं अब भी बस उसे ही देखे जा रहा था… तभी मेरे दिमाग में एक योजना ने जन्म ले लिया, मैं सोच रहा था क्यों ना मीना को पढ़ने के लिये रोजाना हमारे घर बुला लिया जाये और वैसे भी मीना और उसके घर वाले तो चाहते भी यही हैं कि मेरी भाभी मीना को ट्यूशन पढ़ा दे…
मगर मेरी यह योजना तभी कामयाब हो सकती थी जब भाभी मेरा साथ दे!

भाभी से सवाल का हल निकलवा कर मीना अपने घर चली गई मगर मैं उसी के ख्यालों में ही खोया रहा। मीना के जाने के बाद भाभी फिर मुझसे पूछने लगी- आज इतने गुमसुम सा क्यों हो?
मैंने जो योजना बनाई थी उसमें भाभी को शामिल किये बिना मैं कामयाब नहीं हो सकता था इसलिये मैंने भाभी को सारी बात बता दी.

एक बार तो मेरी बात सुनकर भाभी भड़क गई और कहने लगी- रोजाना तुम्हें नई-नई कहाँ से मिलेगी?
मगर मेरे बार बार विनती करने पर भाभी मान गई और मेरा साथ देने की लिये तैयार हो गई।

मेरे कहे अनुसार भाभी ने बातों बातों में मीना को रोजाना पढ़ने आने का इशारा सा कर दिया।
मीना और उसके घरवाले तो यही चाहते थे कि मेरी भाभी मीना को पढ़ा दिया करे इसलिये मीना रोजाना भाभी के पास पढ़ने के लिये आने लगी।

सुबह शाम भाभी को घर के काम करने होते थे इसलिये भाभी ने मीना को पढ़ाने के लिये दोपहर का समय चुना। भाभी पिंकी‌ को अपने कमरे में ही पढ़ाती थी।

वैसे तो मैं कभी भी पढ़ सकता था मगर मेरी योजना के अनुसार मैं भी मीना के साथ साथ पढ़ने के लिये बैठने लगा ताकि अधिक से अधिक मीना के पास रह सकूँ। मेरी भाभी भी इसमे मेरा साथ देती थी वो हमें किताब से थोड़ा बहुत पढ़ा देती और बाकी हमें खुद ही पढ़ने का बोलकर कमरे से बाहर चली जाती।
इसी तरह गणित विषय के भी एक तो सवाल समजा देती और बाकी का हमें हल करने का बता देती, जब कभी हमें कुछ समझ में नहीं आता तो हम भाभी से पूछ लेते थे।

भाभी के कमरे से जाने के बाद मैं और मीना अकेले ही होते थे जिसका फायदा मीना मुझे चिढ़ा कर या छेड़ कर उठाती और मैं उसका सामिप्य पाकर उठाता था।
मीना को जब भी मुझे चिढ़ाने का मौका मिलता वो मुझे चिढ़ाने से बाज नहीं आती थी मगर मुझे उसका चिढ़ाना व छेड़ना अब अच्छा लगता था। मीना के चिढ़ाने पर मैं उसे कुछ भी नहीं कहता बस किसी ना किसी बहाने से उसके कोमल बदन को छूने की कोशिश करता रहता था। मेरी कोशिश रहती कि मैं अधिक से अधिक मीना के कोमल बदन को स्पर्श कर सकूँ।

मैं और मीना बैड पर साथ साथ ही बैठकर पढ़ाई करते थे और मैं जानबूझ कर मीना के बिल्कुल पास होकर बैठता ताकि मीना के कोमल बदन को छुता रहूँ!
मैं जानबूझ कर मीना के कोमल हाथों को छू लेता तो कभी उसकी मखमली बदन से अपने शरीर का स्पर्श करवा देता मगर मीना इस पर कोई ध्यान नहीं देती थी, उसके लिये तो ये सब कुछ हँसी मजाक ही था।

इसी तरह करीब दो हफ्ते गुजर गये मगर मीना ने मुझ पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया।
मुझसे भी अब सब्र नहीं हो रहा था इसलिये एक दिन पढ़ाई करने के बाद मीना जब घर जाने लगी तो मैंने उसके गाल को चूम लिया और उसे कह दिया- मैं तुमसे प्यार करता हूँ…!
मेरी इस हरकत से मीना बुरी तरह से गुस्सा हो गई और अपने घर में मेरी शिकायत करगी, ऐसा बोलकर जल्दी से अपने घर चली गई।

शिकायत की बात सुनकर मेरी तो सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई और मैं बुरी तरह घबरा गया। मैंने जब ये सारी बात भाभी को बताई तो भाभी भी मुझ पर गुस्सा हो गई और कहने लगी- तुम मुझे भी फंसवा दोगे, तुम्हें इतनी जल्दी ये सब करने की क्या जरूरत थी।
मेरे साथ साथ भाभी को भी डर था कि इसके लिये कहीं उनका नाम ना आ जाये।
डर के मारे मेरी हालत अब तो और भी खराब हो गई।

इसके बाद भाभी तो घर के काम में व्यस्त हो गई मगर मैं कमरे में ही बैठा रहा और भगवान से दुआ करने लगा कि भगवान बस आज बचा ले, आज के बाद कभी भी ऐसा कुछ नहीं करुँगा,
और शायद भगवान ने मेरी सुन भी ली…!
क्योंकि रात होने तक मीना के घर से मेरी कोई शिकायत नहीं आई।

अगले दिन सुबह भी सब कुछ सामन्य ही रहा मगर दोपहर को मीना पढ़ने के लिये हमारे घर नहीं आई। मीना का पढ़ने के लिये नहीं आने से मेरे दिल में अब भी डर बना रहा, इसी तरह दो दिन गुजर गये मगर मीना के घर से ना तो मेरी कोई शिकायत आई, और ना ही मीना हमारे घर पढ़ने के लिये आई।
मीना के घर जाने की तो मुझ में हिम्मत नहीं थी मगर मैं उसके घर के बाहर से ही उसे देखने की कोशिश करता रहता था मगर मुझे मीना कहीं भी दिखाई नहीं देती थी, पिछले दो दिन से शायद वो स्कूल भी नहीं जा रही थी।

मेरे दिल में अब भी डर बना हुआ था मगर फिर तीसरे दिन मैं भाभी के कमरे में बैठकर पढ़ाई कर रहा था, पढ़ाई तो क्या कर रहा था बस ऐसे ही बैठकर भाभी से बातें कर रहा था कि तभी हाथों में किताब पकड़े मीना आ गई, अचानक से मीना को देखकर मैं घबरा सा गया और चुपचाप पढ़ाई करने लगा।
मीना भी नजर झुकाकर चुपचाप पढ़ने के लिये मेरे पास बैड पर बैठ गई।

भाभी के पूछने पर मीना ने बताया कि वो रिश्तेदार के यहाँ गई हुई थी इसलिये दो दिन तक पढ़ने के लिये नहीं आ सकी थी।
मीना की बात सुनकर ‌मेरी जान में जान आ गई।

मीना अब फिर से रोजाना पढ़ने के लिये आने लगी मगर मीना से दोबारा बात करने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी। मीना ने भी मुझसे बात करना बन्द कर दिया था, भाभी के सामने तो फिर भी जरूरत होने पर वो कभी कभी बात कर लेती मगर अकेले में हमारी कोई बात नहीं होती थी।

इसी तरह हफ्ता भर गुजर गया, मेरी मीना से बात करने की हिम्मत तो नहीं हुई मगर इस हफ्ते भर में मैंने देखा कि मीना के व्यवहार में काफी बदलाव आ गया था। पहले तो वो बात बात पर मुझसे झगड़ा करती रहती थी मगर अब जब कभी हमारा सामना होता तो वो नजर झुका लेती थी, उसने मुझे चिढ़ाना भी बन्द कर दिया था और जब कभी मेरा हाथ या पैर गलती से मीना को छू जाता था तो वो मुझसे दूर हट जाती थी मगर मुझे कुछ कहती नहीं थी।

मुझे मीना से डर तो लगता था मगर फिर भी मेरे दिल में उसके लिये नये नये ख्याल आते रहते थे।
एक दिन बातों बातों में ऐसे मैंने यह बात जब भाभी को बताई तो वो हंसने लगी और कहा- लगता है अब तेरा काम बन जायेगा।
मैंने उत्सुकता से पूछा- कैसे…?
तो भाभी‌ कहने लगी- बुद्धू… मीना को तेरी शिकायत ही करनी होती तो कब की कर देती…!

भाभी की बात सुनकर मुझ में फिर से एक नई जान सी‌ आ गई, मगर इस बार मैं जल्बाजी में कोई गलती नहीं करना चाहता था, इसलिये मुझे धीरे धीरे आगे बढ़ना ही सही लगा, और इसके लिये सबसे पहले तो मैं मीना से फिर से बाते करने की कोशिश करने लगा। मैं जानबूझ कर पढ़ाई के बारे में या किसी और के बारे में मीना से कुछ ना कुछ पूछने की कोशिश करता रहता, पहले पहल तो मीना मेरी बातों पर कम ही ध्यान देती थी और मेरी बातों का बहुत कम जवाब देती थी मगर फिर धीरे धीरे वो भी मेरी बातों का जवाब देने लगी।

मैं भी मीना से कुछ ना कुछ पूछता ही रहता और जानबूझ कर उससे बातें करने की कोशिश करता रहता था, मीना को भी पता चल गया था कि मैं जानबूझ कर उससे बात करने की कोशिश करता हूँ इसलिये जवाब देते समय उसके चेहरे पर अब हल्की सी मुस्कान आ जाती थी, इससे मेरी हिम्मत बढ़ने लगी।

इसी तरह हफ्ता भर गुजर गया, मीना अब मेरी बातों का जवाब तो दे देती थी मगर वो खुद पहल करके मुझसे कभी बात नहीं करती थी।

धीरे धीरे मैं अब फिर से मीना के पास होकर बैठने लगा और कभी कभी जानबूझ कर उसके हाथ पैरों को छू देता जिससे मीना शर्मा कर हल्का सा मुस्कुरा देती और अपने हाथ पैरों को मुझसे दूर कर लेती।

पहले तो एक दूसरे को छूना मीना के लिये हंसी मजाक ही था मगर उस दिन के बाद से मीना भी समझ गई थी कि मेरे दिल में उसके लिये क्या है इसलिये मेरे छूने पर मीना अब शर्माने लगी थी। मीना की जो भावनाएँ सोई हुई थी, जिसके बारे में उसने शायद कभी सोचा भी नहीं था, उनको मैंने जगा दिया था।

इससे मेरी हिम्मत भी बढ़ती जा रही थी इसलिये कभी कभी तो मैं अब बातों बातों में जानबूझ कर मीना का हाथ भी पकड़ लेता जिससे‌ मीना बुरी तरह घबरा सी जाती और अपना हाथ मुझसे छुड़वाकर शर्म से सिकुड़ जाती, मगर मुझे कुछ कहती नहीं थी।

इसी तरह एक हफ्ता और बीत गया और मेरी हिम्मत बढ़ती गई…

फिर एक दिन पढ़ाई के बाद मीना जब अपने घर जाने लगी‌ तो मौका देखकर मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे फिर से कह दिया- मैं तुमसे प्यार करता हूँ।
अचानक से मेरे ऐसा करने पर मीना बुरी तरह घबरा गई, घबराहट के कारण वो कुछ बोल तो नहीं पा रही थी मगर मुझसे अपना हाथ छुड़ाने के लिये हाथ पैर चलाने लगी जिससे उसके हाथ से किताबें भी छुट कर फर्श पर गिर गई।

इससे पहले कि मीना मुझसे छुड़ाकर भाग जाये, मैंने मीना को पकड़कर अपनी बांहों में भर लिया और धीरे धीरे उसके मखमली बदन को सहलाते हुए उसके नर्म मुलायम गोरे गालों को चूमना शुरू कर दिया, अब तो डर व घबराहट से मीना का पूरा बदन कंपकपाने लगा, वो ऐसे ही हाथ पैर चला रही थी मगर तब तक मीना के बदन को‌ सहलाते हुए मैंने उसे दीवार से सटा लिया‌ और धीरे धीरे मीना के गाल को चूमते हुए उसके गुलाब की पंखुड़ियों की तरह सुर्ख लाल व कोमल होंठों की तरफ बढ़ने लगा.

मीना के दिल की धड़कन अब तेज हो गई थी और साँस भी तेजी से चल रही थी… डर व घबराहट के मारे मीना ठीक से कुछ बोल तो नहीं पा रही‌ थी, बस धीमी आवाज में कराह‌ सी रही थी
‘इश्श… च.छ.ओ.ड़..अ… च.छ.ओ.ड़..अ… म…उ..झ…ऐ…’
मगर फिर तभी बाहर किसी की आहट सुनाई दी, शायद मेरी भाभी होगी, इससे मेरा भी ध्यान बँट गया और तभी मीना ने अपनी पूरी ताकत से मुझे धकेलकर अलग कर दिया।
मैंने भी मीना को दोबारा पकड़ने की कोशिश नहीं की, बस चुपचाप उसे देखता रहा।

मीना बहुत ज्यादा घबरा गई थी वो जल्दी से नीचे बैठकर अपनी किताबें समेटने लगी, किताबें समेटते हुए वो अभी तक अपनी उफनती साँसों को काबू करने की कोशिश कर रही थी।
किताबें उठाने के बाद मीना जब कुछ सामान्य हुई‌ तो मुझ पर गुस्सा करने लगी और आज फिर से मेरी शिकायत करने की कहने लगी… मगर मीना की उखड़ती साँसें व आँखों में तैरते उत्तेजना के गुलाबी डोरे कह रहे थे कि मेरी हरकत से उसे भी मजा आ रहा था इसलिये शायद वो ऐसा कुछ नहीं करेगी, उसका गुस्सा भी मुझे झूठमूठ का ही लग रहा था।
मुझ पर गुस्सा दिखा कर मीना अपने घर चली गई…
और जैसा मैंने सोचा था वैसा ही हुआ मीना ने किसी से कुछ नहीं कहा।

अगले दिन‌ मीना जब पढ़ने के लिये हमारे घर आई तो उस समय भाभी कमरे में नहीं थी इसलिये मैंने भी मौका पाकर मीना को फिर से पकड़ लिया और उससे पूछने लगा- तुमने मेरी बात का जवाब नहीं दिया?
मुझसे छुड़ाने का प्रयास करते हुए मीना कहने लगी- कौन सी बात?
मैंने बताया- जो कल कहा था, उसी का?
इस पर मीना का चेहरा शर्म से लाल हो गया और शर्माते हुए कहा- मुझे नहीं पता…!

तब तक मेरी भाभी कमरे में आ गई और मीना मुझसे छुड़वा कर बैड पर जाकर बैठ गई, मीना ने कोई जवाब तो नहीं दिया था मगर मीना की शर्म‌ हया से मुझे मेरा जवाब मिल गया था, बस अब तो धीरे धीरे उसे पटरी पर लाना था, और इसके लिये मैं मीना के बिल्कुल पास होकर बैठता, और जब भी मुझे मौका मिलता मैं मीना के गोरे गाल को‌ चूम ‌लेता, तो कभी उसके हाथ पैरों को‌ सहला देता था जिसका मीना बनावटी गुस्से से हल्का सा विरोध करती मगर किसी से कुछ कहती‌ नहीं थी।

मेरी हरकतों से बचने के लिये मीना मुझसे दूर होकर भी बैठने का प्रयास करती मगर मैं खिसकर उसके पास हो‌ जाता था। मीना के गालों को चूमना तो अब सामन्य सा हो गया था जिसका‌ मीना ने भी विरोध करना कम कर दिया था, वो बस झुठमुठ का बनावटी गुस्सा करके हंसने लगती थी।

इसी‌‌ तरह दो हफ्ते और बीत गये, मैं भी अब धीरे धीरे करके मीना के गुप्तांगों तक‌ पहुँच गया था, मौका मिलने पर कभी कभी मैं कपड़ों के ऊपर से ही उसके छोटे छोटे उरोजों को सहला देता था, यहाँ तक‌ कि‌ एक बार तो मैंने कपड़ों के ऊपर से मीना की योनि को भी‌ सहला दिया था जिस पर मीना बस बनावटी‌ गुस्से से कहती‌- सुधर जा… नहीं तो‌ मैं सही‌ में तेरी शिकायत कर दूँगी!
मगर मुझे पता था कि मेरी हरकतों से उसे भी मजा आता है इसलिये वो‌ किसी‌ से कुछ नहीं कहेगी।

और फिर एक दिन मुझे अच्छा सा मौका मिल ही गया, उस दिन मेरे पापा गाँव गये हुए थे और मम्मी‌ के बारे में तो आपको पता ही है जो कि बीमार होने के कारण अधिकतर अपने कमरे में ही रहती थी।
मेरी भाभी को भी उस दिन घर के काम देर हो‌ गई थी इसलिये दोपहर को मीना जब पढ़ने के लिये आई तो भाभी ने हमें कुछ देर तक तो पढ़ाया और बाकी की पढ़ाई अपने आप करने के लिये बोलकर कपड़े धुलाई करने के लिये चली गई।
मैंने भी‌ भाभी‌ को‌ जाते समय आँख से इशारा करके बता दिया कि वो‌ जल्दी से‌ कमरे में ना आयें!

भाभी के जाते ही मैंने मीना को पकड़कर अपनी बांहों में भर लिया और धीरे धीरे उसके गोरे गालों‌ को चूमने लगा जिससे मीना झूठमूठ का गुस्सा करते हुए ‘छोड़… छोड़ मुझे… मैं घर जा रही हूँ…मुझे नहीं पढ़ना है तेरे साथ…’ इसी तरह मीना ना-नुकर करते हुए मुझसे छुड़ाने का प्रयास करने लगी मगर मैंने उसे पकड़ कर बैड पर गिरा लिया.

मीना मुझे धकेलकर उठने की कोशिश तो कर रही थी मगर मैं उसे ऐसे ही दबाये रहा और अपना एक हाथ कपड़ों के ऊपर से ही उसके छोटे छोटे उभारों की ओर बढ़ा दिया। मीना के उभार बहुत ही छोटे थे जो मुश्किल से नीम्बू के समान ही होंगे। मीना के उभारों को कस के रगड़ने मसलने के बजाय मैंने उसके ज़वानी के दोनों छोटे छोटे फूलों को हल्के से सहलाना शुरू कर दिया जैसे कोई भौंरा कभी एक फूल पे बैठे तो कभी दूसरे पर…

मेरे हाथ भी यही कर रहे थे, साथ ही मैं मीना की गर्दन व गालों को भी चूम रहा था जिसका मीना अपने सर इधर उधर हिलाकर मेरे चुम्बन से बचने का प्रयास कर रही थी।
मीना एक किशोरी थी जो पहली बार यौवन सुख का स्वाद चख रही थी इसलिये उसका शर्माना, झिझकना जायज ही था मगर मेरा भी काम उसे पटाना, तैयार करना और वो लाख ना ना करे उसे कच्ची कली से फूल बनाना था।
मीना के गालों को चूमते हुए धीरे धीरे मैं उसके गुलाबी रसीले होंठों पर आ गया और हल्के बहुत ही हल्के से उसके रसीले होंठ चूसने लगा।

मीना की साँसें भी अब गहरी होने लगी थी और उसका‌‌ विरोध भी‌ कुछ हल्का पड़ने लगा था।

मैंने अपनी जीभ मीना के मुँह में डाल दी जिसका पहले तो वो अपनी गर्दन को इधर उधर हिलाकर बचने का प्रयास करती रही मगर मैंने भी एक हाथ से उसके सर को कस के पकड़ लिया और उसके मुंह में अपनी जीभ को ठेले रखा.
और फिर कुछ देर की ना नुकुर के बाद ..मीना की जीभ ने भी हरकत करना शुरू कर दिया, वो अब हल्के से मेरे जीभ के साथ खिलवाड़ करने लगी। उसके रसीले होंठ भी अब मेरे होंठों को धीरे धीरे कभी कभी चूमने लगे थे.

मगर मैं ऐसे छोड़ने वाला थोड़े ही था, मैं आज पहले से कुछ आगे बढ़ना चाहता था इसलिये मेरा हाथ जो अब तक उसके छोटे छोटे उभारों से खेल रहा था वो मीना के बदन पर से रेंगता हुआ उसकी दोनों जाँघों के बीच आ गया मगर तभी मीना ने मेरे हाथ को पकड़ लिया और साथ ही मेरे होंठों पर से अपना मुँह हटा कर ‘ नहीं नहीं… छोड़… ना…’ कहने लगी लेकिन मैंने उसको छोड़ा नहीं बल्कि हल्के हल्के उसके गाल पर फिर से चूमने लगा, साथ ही मेरा हाथ पकड़े जाने के बावजूद भी थोड़ी सी‌ जबरदस्ती करके मैं धीरे धीरे उसकी योनि को‌ भी सहलाने लगा।
‘अआआ…ह्ह्हह… बस्स्स… अ..ओओ..य.. हो.. गय..आ… अआआ…ह्ह्हह… ..प्लीज..अअआ… ह्ह्हहहहह.’
वो बुदबुदा रही थी।
मीना की आवाज में घबराहट और डर तो था लेकिन साथ ही कही ना कही उसकी भी थोड़ी बहुत इच्छा हो रही थी।

मैंने उसके गालों को छोड़ा नहीं बल्की हल्के से उसी जगह पे एक हल्का सा चुम्बन किया और…
और फिर एक झटके से मैंने अपना हाथ छुड़वाकर मीना के लोवर व पेंटी में डाल‌ दिया जिससे मीना ने ‘अ..अ..ओ…य… न..नहीं..इई.. इ…इईई…श्शशश.. क्क्क…क्या… कर रहा है…’
कहकर पकड़ने की कोशिश करने लगी मगर तब तक मेरा हाथ मीना की लोवर व पेंटी को भेद कर उसमें में उतर चुका था।

पहले तो मीना ने अपने घुटने मोड़ने चाहे मगर उसके दोनों पैरों को मैंने अपने पैर से दबा रखा था, फिर मीना ने दोनों जाँघों को भींच कर अपनी‌ योनि को छुपाने की‌ कोशिश की… मगर उसकी जांघें इतनी मांसल भरी हुई‌ नहीं थी कि उसकी योनि को‌ छुपा सके, उसकी जाँघों को बन्द करने के बाद भी दोनों जाँघों के बीच इतनी जगह रह गई कि मेरी दो उंगलियां उसकी योनि को छू गई जो योनिरस से हल्की सी गीली हो रही थी।

मीना की योनि बिल्कुल सपाट व चिकनी लग रही थी जिस पर ना तो कोई उभार था और ना ही कोई बाल महसूस हो रहे थे। मेरी जो दो उंगलियाँ मीना कि योनि को‌ जितना छू‌ रही थी उन्हीं से मैं योनि को छेड़ने लगा, साथ में ही योनि को उंगलियों से हल्के हल्के दबा भी रहा था, जिससे मीना शर्म से दोहरी हो‌ गई और ‘इईईई…श्शशश…नहीं..इई.. अ..ओ.ओय.. वहां से हाथ हटा…प्लीज… बात… मान.. वहां नहीं… छोड़ ना… अब बहुत हो तो गया… बस्सस…’ करके मेरे हाथ को बाहर निकालने की कोशिश करने लगी।

मगर मैं कहाँ मानने वाला था, मैं धीरे धीरे ऐसे ही मीना की योनि को उंगलियों से दबाता सहलाता रहा जिससे कुछ ही देर में मीना की योनि‌ पर असर हो गया क्योंकि मेरी‌ उंगलियाँ कामरस से भीगने लगी और मीना के मुँह से भी अब हल्की हल्की कराहें निकलना शुरु हो‌ गई।
मीना ने अब भी मेरा हाथ पकड़ रखा था मगर अब वो उसे निकालने की इतनी कोशिश नहीं कर रही थी। मेरा हाथ पकड़े हुए वो अब भी यही बुदबुदा रही‌ थी ‘अ..अ.. ओ…य… न..नहीं..इई.. ना.. इ…इईई… श्शशश… क्क्क…क्या… कर रहा है… इईईई…श्शशश… नहीं..इई.. छोड़ ना… प्लीज.. बस्सस… अब बहुत हो तो गया… बस्सस…’

मीना की जांघों की पकड़ भी अब कुछ हल्की होती जा रही थी और धीरे धीरे मेरी‌ उंगलियाँ मीना की जाँघों के बीच जगह बना‌कर नीचे की ‌तरफ बढ़ती जा‌ रही थी, तब तक‌ मीना की योनि‌ भी काम रस से लबालब हो गई‌। मैंने फिर से मीना के होंठों को मुँह में भर लिया और हल्के हल्के उन्हें चूसना शुरू कर दिया. इस दो‌ तरफा हमले को मीना ज्यादा देर तक सहन‌ नहीं कर सकी‌ और उसके बदन‌ ने उसका‌ साथ छोड़ दिया, मीना की‌ जांघें अब फैलने लगी और वो भी अब कभी कभी मेरे होंठों को हल्का हल्का दबाने लगी थी, तब तक‌ मेरी उंगलियाँ योनि के अनार दाने तक‌ पहुँच गई और मैंने उसे हल्का सा मसल दिया जिससे मीना जोर से ‘इईई…श्शशश… अ..अआआ…ह्ह्हहहह…’ करके चिहुंक पड़ी और जोर से मेरे हाथ को दबा लिया. मगर मैं रुका नहीं, धीरे धीरे मेरी उंगलियाँ योनि के प्रवेश द्वार तक पहुँच गई जो‌ योनिरस से भीगकर बिल्कुल तर हो गया था।

मीना ने भी अब अपनी जांघें फैलाकर समर्पण कर दिया जिससे मेरे हाथ का पूरी योनि पर अधिकार हो गया और मैं खुलकर मीना की‌ योनि‌ को ‌रगड़ने मसलने लगा… मीना के मुँह से भी अब सिसकारियाँ निकलनी शुरु‌ हो गई।

मैं मीना की योनि को रगड़ते मसलते हुए धीरे धीरे योनिद्वार पर भी हल्का‌ से अन्दर की ‌तरफ दबाने लगा, बस उंगली का एक पौरा भर ही अन्दर कर रहा था, मगर मीना अब खुद ही मेरे हाथ को पकड़ कर जोर से दबाते हुए ‘इईई…श्शशश… अआआ…ह्ह्ह… इईई…श्शश… अआआ…ह्ह्हहह…’ करने लगी ताकि मेरी उंगली‌ उसकी गुफा में समा जाये, लेकिन मैं उंगली को योनिद्वार में ज्यादा अन्दर तक नहीं डाल‌ रहा था क्योंकि अन्दर योनि की गुफा काफी संकरी थी।

मीना बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई थी उत्तेजना के वश वो नहीं जान पा रही थी कि वो क्या कर रही है। इसलिये मैं जितनी‌ मेरी उंगली योनि में जा रही थी उसे ही योनिद्वार के अन्दर बाहर करने लगा मगर अब मैंने थोड़ी गति‌ बढ़ा दी थी जिससे‌ मीना की सिसकारियाँ भी तेज हो‌ गई और वो जोर से ‘इईई… श्शशश… अआआ… ह्ह्हह… इईईई…श्शश… अआआ…ह्ह्ह…’करते हुए मेरे हाथ को अपनी‌ योनि पर दबाने लगी‌ साथ ही वो अपनी दोनों जाँघों को भी कभी खोल रही थी, तो‌ कभी जोर से भींच रही थी।

मीना ने मेरे होंठों को भी अब जोरो से काटना शुरू कर दिया था और फिर अचानक से मीना का बदन थरथरा गया उसने जोर से ‘इईईई…श्शशश… अआआ…ह्ह्हहहहह… ईई…श्शश… अआआ… ह्ह्ह…’ की किलकारी सी मारते हुए मेरे हाथ को अपनी योनि पर दबा कर जोर से दोनों जाँघों से भींच लिया और उसकी योनि ने मेरे हाथ पर उबलता हुआ सा लावा उगलना शुरू कर दिया।

मीना तीन-चार किश्तों में अपने योनिरस के लावे से मेरे हाथ को नहला कर बेसुध सी हो गई। मैं भी कुछ देर तक ऐसे ही बिना कोई हरकत किये खामोशी से मीना को देखता रहा मगर मेरा हाथ अब भी मीना की पेंटी में ही था।

मीना आँखें बन्द करके लम्बी लम्बी सांसें ले रही थी, चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव साफ नजर आ रहे थे जैसे की‌ कोई बहुत लम्बी दौड़ को जीतने की खुशी के बाद आराम कर रही हो।

मीना का ज्वार तो मैंने शांत कर दिया था मगर मैं अब भी प्यासा ही था इसलिये मैंने धीरे से मीना के गाल को फिर से चूम‌ लिया, जिससे मीना चौंक‌ सी ‌गई जैसे‌ अभी अभी‌ गहरी नींद से जागी हो, मीना ने मेरा हाथ पकड़कर अपने पजामे से बाहर निकाल दिया और मुझे धकेल कर जल्दी से उठकर बैठ गई।

मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?
तो मीना ने अपने कपड़े ठीक करते हुए हल्की सी मुस्कान के साथ बस एक बार मेरी तरफ देखा और फिर शर्माकर गर्दन नीचे झुका ली।
मैंने फिर से पूछा- क्यों… मजा नहीं आया क्या?
इस पर मीना ने हल्का सा मुस्कुराकर कहा- तू बहुत गन्दा है।
और शर्माकर फिर से गर्दन नीचे झुका ली।

मैं फिर से‌ मीना को पकड़कर‌ चूमना चाहता‌ था मगर तभी‌ बाहर से भाभी ने आवाज देकर मुझे छत पर जाकर कपड़े सुखाने को कहा!
तब तक मीना भी घर जाने के लिये जल्दी जल्दी अपनी किताबें समेटने लगी।

जाते समय मैंने फिर से मीना का हाथ पकड़ लिया और उससे कहा- आज रात को छत पर मिलेगी क्या?
इस पर मीना ने अपने कंधे उचकाकर हल्का सा मुस्कुराते हुए कहा- क्यों… किसलिये…?
और जल्दी से अपना हाथ छुड़वा कर भाग गई.

इतना सब कुछ करने के बाद मैंने भी मीना को दोबारा पकड़ने की कोशिश नहीं की क्योंकि मेरा काम‌ अब तो बन ही गया था, और मैं जल्दबाजी में उसे बिगाड़ना नहीं चाहता था‌, इसलिये मैं भी कपड़े सुखाने के लिये भाभी‌ के पास चला गया।

दोस्तों आपको मेरी चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके बताये और सुझाव भी दे ! अगर आप अपनी कहानी Submit करना चाहते है तो मेल कर सकते है-Kyakhabar32@gmail.co

Leave a Reply