Jawan Ladki : Meri Masum Jawani Ki Shuruat-1 मेरी मासूम जवानी की शुरुआत-1

By | March 7, 2019
Jawan Ladki Meri Masum Jawani Ki Shuruat-1

Jawan Ladki Meri Masum Jawani Ki Shuruat-1

Jawan Ladki : Meri Masum Jawani Ki Shuruat-2

हैलो फ़्रेंड्स, यह मेरी पहली कहानी है अन्तर्वासना पर।
यह कहानी मेरी पहली चुदाई की है जिसमें मेरी सील टूटी। उम्मीद करती हूँ कि आप लोगों को पसंद आएगी।

सबसे पहले मैं आप सबको अपने बारे में थोड़ा सा बता देती हूँ। मेरा नाम मलिका चौधरी है। जैसा मेरा नाम है वैसे ही मेरा शरीर। मेरा ठीक ठाक हाइट की हैं और तन का रंग भी गोरा है। मैं थोड़ी सी भरी भरी शरीर की हूँ पर मोटी नहीं हूँ। मेरी शक्ल काफी मासूम सी है और स्वभाव भी शर्मीला सा ही है।

शुरू से ही मैं पढ़ाई मैं ज्यादा ध्यान देती थी, हालांकि मेरी दोस्ती लड़कों से बहुत कम थी फिर भी मैं सभी से बोल लेती थी। बहुत से लड़कों ने मुझको प्रपोज़ किया पर मैं सबको प्यार से मना कर देती थी।
जब मैंने कॉलेज में एड्मिशन लिया उस साल से मेरी मासूमियत का वक़्त पूरा होने लगा। मेरी दोस्ती एक लड़की से हुई जिसका नाम शीला है. शुरू में लगा कि वो भी मेरी तरह शरीफ है पर जब तक मैं उसे समझ पाती, मैं सेक्स के समुंदर में उतार चुकी थी। और मुझे बिगाड़ने का पूरा श्रेय मेरी सहेली शीला को जाता है।

हम दोनों एक ही हॉस्टल रूम में रहती थी। शुरू के एक महीने तो सब नॉर्मल चला फिर मुझे उसकी बातें पता चलने लगी। क्लास के बहुत से लड़कों ने उससे मेरे से सेटिंग कराने को बोला क्यूंकि मैं लड़कों से ज्यादा बात नहीं करती थी।
पर मैंने सबको मना कर दिया।

एक दिन रात को मेरी आँख खुली तो देखा कि शीला कम्प्यूटर पर ब्लू फिल्म देख रही थी और अपनी चूत रगड़ रही थी। मैंने सोचा इसे डराती हूँ और मैं उठ के चिल्लाने लगी- क्या है ये सब?
पर वो ज्यादा तेज़ थी, बोली- चिल्ला क्यूँ रही है तू भी देख ले। अब बच्चों की आदतें छोड़ और बड़ों जैसी हरकतें किया कर।
उसकी बात सही थी तो मैं भी साथ में ब्लू फिल्म देखने लगी। मैंने पहली बार देखी थी तो कुछ अजीब भी लग रही थी और अच्छी भी।

मुझे पता भी नहीं चला और मैं अपनी चूत को ऊपर से रगड़ रही थी।
शीला ये देख के मुस्कुराने लगी, फिर वो बोली- शर्मा मत, उतार दे लोअर और फिर रगड़।
मैं शरमा रही थी तो उसने अपने सारे कपड़े उतार दिये. थोड़ा शर्माते हुये मैं भी उसके सामने नंगी हो गयी। फिर मैं फिल्म देखते हुये रगड़ने लगी अपनी चूत को।

5 मिनट के बाद मुझे बहुत अजीब सी गुदगुदी सी होने लगी और शरीर में कम्पकपी से होने लगी। फिर एकदम से काँपते हुए मेरा पानी छूट गया और मैं हाँफने लगी। मैं हंस रही थी और शीला फिर बोली- कैसा लगा सुहानी?
मैंने कहा- यार, मजा आ गया … ऐसा मजा तो पहले कभी नहीं आया।

उसने पूछा- इससे ज्यादा मजा चाहिये?
मैं बोली- कैसे?
तो वो बोली- मैं तेरे लिए लंड का इंतजाम कर सकती हूँ।
मैं डर गयी और बोली- नहीं यार … वो सब शादी के बाद करना सही होता है। पहले करो तो सब कैरक्टर लेस समझते हैं।
उसने कहा- जब तक कोई पकड़ा ना जाए, कोई कुछ नहीं कहता।

उसकी बात सही थी तो मैं बोली- किसी को पता तो नहीं चलेगा न?
उसने मुझे भरोसा दिलाया कि नहीं पता चलेगा।
मैंने डरते हुए हाँ कर दी।

उसने तभी अपने फोन से किसी को फोन मिलाया और सीधा बोली- मेरी सहेली मलिका तुम्हारे लंड से चुदना चाहती है, कल तैयार रहना।
मैंने पूछा- कौन है वो?
वो बोली- कल दर्शन कर लियो दोनों के, लड़के के भी और उसके लंड के भी। अब सो जा अच्छे से, कल बहुत थकान होने वाली है।

मैं कल के बारे में सोचते हुए कब सो गयी, पता ही नहीं चला।
अगली सुबह मैं उठी, शीला पहले ही उठ चुकी थी, हम दोनों ने आज कॉलेज बँक मार लिया था।
उसने मुझे कहा- तैयार हो जा अच्छे से … आज तेरी अच्छे से चुदाई होगी।
मैंने शरमा के चादर में मुंह छुपा लिया।
वो बोली- अरे अभी से शरमा रही है, आज तो बेशर्म होने की बारी है, जा जल्दी से नहा ले।

मैं नहा धोकर आई तो उसने मेरे लिए अपनी ब्लैक ड्रेस निकाल के रखी थी। वो सिंगल पीस टॉप था, उसमें भी क्लीवेज दिखता था थोड़ा सा।
मैं बोली- मैं ऐसे कपड़े नहीं पहनती।
वो बोली- आज जो मैं बोल रही हूँ … वो कर, इसे पहन ले और बाहर जाते हुये ऊपर से लॉन्ग जाकेट डाल दूँगी, किसी को नहीं दिखेगा।

मैंने पहन लिए वो कपड़े और मेकअप भी कर दिया उसने मेरा।
कल तक जो लड़की शरीफ और मासूम दिखती थी, वो आज हॉट लग रही थी।

हॉस्टल खाली हो चुका था क्योंकि सभी लड़कियां क्लास लगाने जा चुकी थी।
मैंने पूछा- कितनी देर लगेगी?
तो उसने बताया- ओह हो … मैडम को चुदने की बड़ी जल्दी है?
मैं फिर शरमा गयी।

उसका फोन बजा और उसने बोला- ठीक है, अभी भेजती हूँ।
फिर शीला ने रूम से बाहर झाँका और बोली- रास्ता साफ है, हॉस्टल के गेट के बाहर एक गाड़ी खड़ी है.
उसने रूम के छज्जे से मुझे गाड़ी दिखा दी।

फिर मैंने अपना पर्स उठाया, शीला मेरे पास आई और बोली- जा मलिका जा … जी ले अपनी ज़िंदगी।
और हंसने लगी।
मैं चुपचाप सीधा गाड़ी में आ के बैठ गयी। उसमें बस ड्राईवर था.

20 मिनट के बाद गाड़ी एक ऊंची सी बिल्डिंग के आगे आकर रुकी। ड्राईवर बोला- मैडम यहीं उतरना है आपको।
मैं उतर गयी और ड्राईवर चला गया।

तभी मेरा फोन बजा, मैंने उठाया तो उधर से एक लड़का बोला- मैंने गेट पे बोल दिया है, तुम सीधा अंदर आ जाओ फ्लैट नंबर 804 में।
मैं लिफ्ट लेके आठवें फ्लोर पे पहुंची और फ्लैट की बैल बजाई।
जैसे ही गेट खुला मैं एकदम से चौंक गयी।

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, उसने मेरा हाथ पकड़ के अंदर खीच लिया और दरवाजा बंद कर दिया।

कमरे में मेरे कॉलेज का एक सीनियर लड़का था जिसका नाम सुनील था। वो दिखने में तो कुछ खास नहीं था पर काफी लंबा तगड़ा था।
मैं चौंककर बोली- सर आप?
वो बोला- हाँ मैं … आओ और सोफ़े पे बैठ जाओ।
मुझे उत्सुकता से ज्यादा अब डर सा लग रहा था।

वो समझ गया था कि मैं डर रही हूँ। उसने बोला- डरो मत, आराम से बैठो।
मैं बेचैनी से बैठ गयी।
वो बड़े सलीके से पेश आ रहा था। सुनील बोला- डरो मत, कुछ नहीं होगा। कुछ पियोगी?
मैं बोली- एक ग्लास पानी दे दो।
उसने पानी दे दिया।

फिर उसने शीला को फोन मिलाया और कहने लगा- मलिका आ गयी है फ्लैट पे … पर डर रही है, जरा समझा दो इसे।
सुनील ने फोन मुझे दे दिया। मैं बाल्कनी में जा के बात करने लगी।
शीला ने बोला- डर मत, सर बहुत अच्छे हैं, तेरा ख्याल रखेंगे। अब तू जा और चुद ले।
मैंने खुद को समझाया और अंदर आ गयी।
सुनील बोला- मैं तुम्हारे लिए जूस ले आऊँ?
मैंने शर्माते हुये कहा- ठीक है।

फिर जूस पीकर सुनील बोला- तो शुरू करें?
मैंने कहा- मुझे शर्म आ रही है।
सुनील ने कहा- इसमें शर्माने की क्या बात है? यह काम तो सब करते हैं। चलो मैं तुम्हारी शर्म दूर कर देता हूँ।
उसने बोला- मैं आराम से करूंगा, डरो मत।
मैं बोली- क्या मैं बाथरूम जा सकती हूँ।
उसने बाथरूम का रास्ता बता दिया।

मैं अंदर गयी, शीशे के सामने खुद को सेट किया और ऊपर की और लॉन्ग जाकेट उतार दी, अपनी ड्रेस सेट की और बूब्स को थोड़ा सा ऊपर करे, बाल भी ठीक करे।
फिर मैं रूम में आ गयी.

सुनील सोफ़े पर बैठा था और मेरा इंतज़ार कर रहा था। मुझे खुद को इस हालत में देख के शर्म सी आ रही थी।
सुनील बोला- यार, कितनी खूबसूरत हो तुम! जब से तुम कॉलेज में आई हो, मैं तो तुम्हें ही देखता हूँ। बैठो न।
मैं सामने बैठ गयी.
सुनील बोला- तो शुरू करते हैं.
और उसने पर्दे कर दिया कमरे के।

सुनील मेरे पास आया और मुझे देखने लगा। मैं खड़ी हो गयी; मेरा दिल धक धक कर रहा था।
वो मेरी और करीब आया तो मैं थोड़ा पीछे हो गयी।
सुनील मुस्कुराने लगा।

उसने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिये और सिर्फ कच्छा छोड़ दिया। मैं उसके जिस्म को देखे जा रही थी। एकदम बॉडी बना के हीरो लग रहा था, बस उसकी शक्ल हीरो वाली नहीं थी।
सुनील बोला- अब आप अपनी ड्रेस उतारो।
मैंने कहा- मुझे शर्म आ रही है।
उसने कहा- ऐसे तो काम नहीं चलेगा, मैंने भी तो अपने कपड़े उतार दिये।

फिर उसने मेरे कंधे से ड्रेस के फीते खोल दिये और वो नीचे गिर गयी।
मैं तो शर्म के मारे धरती में गड़ी जा रही थी क्योंकि अब मैं सिर्फ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी। मैंने अपनी नंगी टाँगे क्रॉस कर के मोड़ ली और नीचे देखने लगी।

सुनील समझ गया कि इतना आसान नहीं है मुझे चुदने के लिए तैयार करना।
वो मेरे पास आया, मेरी ठुड्डी को उंगली से उठाया और मेरी आंखों में देख के बोला- आज सब भूल जाओ … बस इस वक्त को एंजॉय करो।

फिर उसने दोनों हाथों से मेरा चेहरा पकड़ा और मेरे होठों पर अपने होंठ रख दिये। मेरी आंखें आश्चर्य से फटी रह गयी। मेरे होंठ उसके होंठों मिले हुये थे.
और फिर अपने आप मेरी आंखें बंद हो गयी, मैं उस लम्हे में डूब गयी।

फिर मैं और वो एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे। लगभग दो मिनट तक मुझे किस करने के बाद उसने मुझे छोड़ दिया। मैंने आँखें खोली, अब मेरा डर निकल चुका था और मैं मुसकुराते हुए नीचे देख रही थी।
सुनील बोला- यार तुम इतनी मासूम सी हो दिखने में … कि ज़बरदस्ती करने का दिल नहीं कर रहा।
और मैं मुस्कुरा दी।

दोस्तों आपको मेरी चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके बताये और सुझाव भी दे ! अगर आप अपनी कहानी Submit करना चाहते है तो मेल कर सकते है-Kyakhabar32@gmail.com

Leave a Reply